A Letter to God Hindi Explanation

A Letter to God Hindi Explanation

A Letter to God Hindi Explanation

A Letter to God Hindi Explanation

The house – the only one in the entire valley- sat on the crest of a low hill. From this height one could see the river and the field of ripe corn dotted with the flowers that always promised a good harvest. The only thing the earth needed was a downpour or at least a shower. Throughout the morning Lencho-who knew his fields intimately-had done nothing else but see the sky towards the north-east.

वह मकान जो एक नीची पहाड़ी की चोटी पर स्थित था और यह पूरी घाटी में अकेला स्थित था। इस ऊँचाई से कोई भी नदी और पके धान के खेतों को फूलों से लदे हुए देख सकता था, जो एक अच्छी फसल का सदा वायदा करते थे। पृथ्वी को केवल एक वर्षा अथवा कम से कम एक बौछार की आवश्यकता थी। सारी सुबह लैंचो, जो अपने खेतों को नजदीक से जानता था उत्तर पूर्व दिशा में आकाश की ओर देखते रहने के सिवाय कुछ नहीं किया था।

“Now we’re really going to get some water, woman. The woman who was preparing supper, replied, “Yes, God willing”. The older boys were working in the field, while the smaller ones were playing near the house until the woman called to them all. “Come for dinner”. It was during the meal that, just as Lencho had predicted, big drops of rain began to fall. In the north-east huge mountains of clouds could be seen approaching. The air was fresh and sweet. The man went out for no other reason than to have the pleasure of feeling the rain on his body and when he returned he exclaimed. “These aren’t raindrops falling from the sky they are new coins. The big drops are ten cent pieces and the little ones are fives.”

Essay on COVID – 19

” प्रिये, अब हम वास्तव में कुछ पानी प्राप्त करने जा रहे हैं।” महिला , जो भोजन पका रही थी , ने जवाब दिया , ” हाँ , यदि भगवान ने चाहा । ” बड़े बेटे खेत में काम में व्यस्त थे , जबकि छोटे घर के पास खेल रहे थे । तब महिला ने सभी को आवाज दी , ” खाने के लिए आओ । ” खाने के समय , जैसी कि लेन्चो ने भविष्यवाणी की थी , वर्षा की मोटी – मोटी बूंदें गिरने लगी। उत्तर – पूर्व दिशा में बड़े – बड़े पहाड़ जैसे बादल आते हुए दिखाई दिये । हवा ताजगी भरी एवं सुहानी थी । लेन्चो बाहर गया , इसका कारण वर्षा के सुख को अपने शरीर पर अनुभव करना था और अब वह वापस आया तो आश्चर्य से बोला- “ ये आसमान से गिर रही वर्षा की बूंदें नहीं हैं , ये नये सिक्के हैं । बड़ी बूंदें दस सेन्ट के सिक्के है और छोटी पाँच सेन्ट के। “

With a satisfied expression he regarded the field of ripe corn with its flowers, draped in a curtain of rain. But suddenly a strong wind began to blow and along with the rain very large hailstones began to fall. These truly did resemble new silver coins. The boys , exposing themselves to the rain , ran out to collect the frozen pearls . With a sense of contentment, he looked at a field of ripe maize, laden with flowers, wrapped in a blanket of rain. But suddenly a strong wind started blowing and along with the rain, big hailstorms started falling. These actually looked like new silver coins. The boys ran out in the rain to collect these frozen pearls.

सन्तुष्टि के भाव के साथ उसने , फूलों से लदे हुए – पके हुए मक्के के खेत को , बारिश की चादर में लिपटे हुए देखा । लेकिन अचानक तेज हवा बहने लगी और बारिश के साथ – साथ बड़े – बड़े ओले गिरने लगे । ये वास्तव में चाँदी के नये सिक्के जैसे लग रहे थे । लड़के , बारिश में बाहर निकलकर इन जमे हुए मोतियों को एकत्रित करने के लिए दौड़े ।

“It’s really getting bad now,” exclaimed the man. “I hope it passes quickly.” It did not pass quickly. For an hour the hail rained on the house, the garden, the hillside, the cornfield, on the whole valley. The field was white, as if covered with salt.

आदमी ने चिन्तापूर्वक कहा , “ अब यह ( मौसम ) वास्तव में बहुत खराब हो रहा है ”। “ मैं आशा करता हूँ कि यह जल्दी समाप्त हो जाए । ” यह जल्दी समाप्त नहीं हुआ । एक घण्टे तक ओले घर पर , बगीचे में , पहाड़ी पर , मक्के के खेत में , सम्पूर्ण घाटी पर बरसते रहे । खेत ऐसे सफेद हो गया , जैसे कि नमक से ढक गया हो।

UP Board Class 10 Hindi Model Paper 2022

Not a leaf remained on the trees. The corn was totally destroyed. The flowers were gone from the plants. Lencho’s soul was filled with sadness. When the storm had passed, he stood in the middle of the field and said to his sons, “A plague of locusts would have left more than this. The hail has left nothing. This year we will have no corn.” That night was a sorrowful one. “All our work. for nothing.” There’s no one who can help us. “We’ll all go hungry this year.”

पेड़ों पर एक भी पत्ती नहीं बची। धान की खेती पूर्ण रूप से बर्बाद हो गई । लैंचो के खेत में फूल , पौधों से गिर गए। लैंचो की आत्मा उदासी से भर गई । जब तूफान समाप्त हुआ तो वह अपने खेत के बीच में खड़े होकर उसने अपने पुत्रों से कहा , “ एक टिड्डी दल भी इससे ज्यादा पीछे छोड़ देता परन्तु ओलावृष्टि ने कुछ नहीं छोड़ा है। इस वर्ष हमें विना अनाज के रहना पड़ेगा।” वह एक दुःखद रात थी। ” हमारी सारी मेहनत व्यर्थ चली गई।” ” ऐसा कोई व्यक्ति नहीं जो हमारी सहायता कर सके।” “ इस वर्ष हम सबको भूखा रहना पड़ेगा।”

But in the hearts of all who lived in that solitary house in the middle of the valley, there was a single hope: help from God. “Don’t be so upset, even though this seems like a total loss. Remember, no one dies of hunger.” “That’s what they say: no one dies of hunger.” All through the night, Lencho thought only of his one hope: the help of God, whose eyes, as he had been instructed, see everything, even what is deep in one’s conscience. Lencho was an ox of a man, working like an animal in the fields, but still he knew how to write. The following Sunday, at daybreak, he began to write a letter which he himself would carry to town and place in the mail. It was nothing less than a letter to God. “God,” he wrote, “if you don’t help me, my family and I will go hungry this ycar. I need a hundred pesos in order to sow my field again and to live until the crop comes, because the hailstorm…..”

He wrote ‘To God’ on the envelope, put the letter inside and, still troubled, went to town. At the post office, he placed a stamp on the letter and dropped it into the mailbox. One of the employees, who was a postman and also helped at the post office, went to his boss laughing heartily and showed him the letter to God. Never in his career as a postman had he known that address. The postmaster a fat, amiable fellow also broke out laughing but almost immediately he turned serious and, tapping the letter on his desk, commented, “What faith! I wish I had the faith of the man who wrote this letter. Starting up a correspondence with God!”

Our YouTube Channel for Board Exam – https://www.youtube.com/c/Knowledgebeemplus

लेकिन उन सभी के हृदय में , जो घाटी के बीच उस एकल मकान में रहते थे , उनको केवल एक ही आशा थी – ईश्वर से सहायता। ” इतना परेशान मत हो , यद्यपि ऐसा महसूस होता है कि सब कुछ नष्ट हो गया। याद रखो भूख से कोई नहीं मरता।” “कहते तो ऐसा ही हैं । कोई भूखों नहीं मरता। ” पूरी रात लेन्चो एक आशा के बारे में सोचता रहा : ईश्वर से सहायता , जिसकी आँखें , जैसा उसे बताया गया था , सभी कुछ देखती हैं , यहाँ तक कि अंतर आत्मा को भी। लेन्चो आदमी होते हुए भी एक बैल था जो खेतों में पशुवत् कार्य करता था लेकिन फिर भी वह लिखना जानता था। अगले इतवार को वह एक चिट्ठी लिखेगा, जिसे वह खुद शहर ले जाकर बॉक्स में डालेगा। यह ईश्वर के नाम एक पत्र से कम नहीं था।” भगवान् , ” उसने लिखा , ” यदि आपने मेरी मदद नहीं की , तो मैं और मेरा परिवार भूखों मर जायेगा। मुझे अपने खेत में पुन : बीज बोने के लिए एवं अगली फसल के आने तक काम चलाने के लिए सौ पीसोज चाहिए क्योंकि ओलों के तूफान ….। ”

लिफाफे पर उसने अंकित किया , ” भगवान को , ” चिट्ठी को लिफाफे में डाला , दु : खी मन से शहर चला गया । डाकघर पहुँचकर उसने लिफाफे पर टिकट लगाई और उसे पत्र – पेटिका में डाल दिया। एक कर्मचारी जो डाकिया था और डाकखाने के काम में सहायता करता था , हँसता हुआ अपने बॉस के पास गया और उसे भगवान के नाम वाली चिट्ठी दिखाई । अपनी पूरी नौकरी में उसने कभी ऐसा पता नहीं देखा था। डाकपाल एक मोटा , खुशमिजाज व्यक्ति था – वह हँसने लगा . लेकिन शीघ्र ही वह गंभीर हो गया और चिट्ठी को अपनी मेज पर थपथपाते हुए बोला , ” कितना अटूट विश्वास है । काश मुझमें भी उस व्यक्ति जैसा विश्वास होता , जिसने वह चिट्ठी लिखी है जो भगवान से पत्राचार कर रहा है।”

So in order not to shake the writer’s faith in God, the postmaster came up with an idea: answer the letter. But when he opened it, it was evident that to answer it he needed something more than goodwill, ink and paper. But he stuck to his resolution he asked for money from his employees, he himself gave part of his salery, and several friends of his were obliged to give something for an act of charity.
It was impossible for him to gather together the hundred pesos, so he was able to send the farmer only a little more than half. He put the money in an envelope addressed to Lencho and with it a letter containing only a single word as a signature: God.

इसलिए लेखक का परमात्मा पर विश्वास न डगमगा जाए , पोस्टमास्टर के दिमाग में एक विचार आया कि उस पत्र का उत्तर दिया जाय। लेकिन जब उसने पत्र को खोला , यह स्पष्ट हो गया कि इस पत्र में उत्तर देने के लिए नेक भावना से अधिक कुछ अन्य चीज की जरूरत थी । लेकिन वह अपने निश्चय पर अडिग रहा , उसने अपने कर्मचारियों से पैसे देने के लिए कहा . उसने स्वयं ने भी कुछ अंश दिया और उसके अनेकों दोस्तों ने भी इस नेक दानशीलता के कार्य में कुछ न कुछ दिया। उसके लिए एक सौ पेसोस का धन एकत्रित करना असम्भव था , इसलिए वह उस किसान को आधे से थोड़ा ज्यादा धन ही भेजने में योग्य हो पाया । उसने धन को एक लिफाफे में रखा और लिफाफे पर लैंचो का पता लिखा और धन के साथ एक पत्र भी उसने डाल दिया । जिस पर केवल एक शब्द हस्ताक्षर के रूप में लिखा गया था : परमात्मा।

Our Mobile App for Board Exam https://play.google.com/store/apps/details?id=com.knowledgebeem.online

The following Sunday Lencho came a bit earlier than usual to ask if there was a letter for him. It was the postman himself who handed the letter to him while the postmaster, experiencing the contentment of a man who has performed a good deed, looked on from his office. Lencho showed not the slightest surprise on seeing the money, such was his confidence-but he became angry when he counted the money. God could not have made a mistake, nor could he have denied Lencho what he had requested.

अगले रविवार को वह अन्य दिनों की तुलना में यह पता लगाने के लिए थोड़ा जल्दी आया कि क्या उसका कोई पत्र था। यह स्वयं डाकिया था जिसने उसे पत्र दिया था , जबकि पोस्टमास्टर एक नेक कार्य करने वाले व्यक्ति की संतुष्टि का अनुभव करते अपने दफ्तर से देख रहा था। लैंचो ने धन को देखकर जरा सी भी हैरानी प्रदर्शित नहीं की , ऐसी उसकी दृढ आस्था थी। लेकिन जब उसने पीसोज की गिनती की तो क्रोधित हो गया । परमात्मा गलती कर ही नहीं सकता , न ही वह लैंचों को उसकी प्रार्थना को स्वीकार करने से मना कर सकता था।

Immediately, Lencho went up to the window to ask for paper and ink. On the public writing-table, he started to write, with much wrinkling of his brow, caused by the effort he had to make to express his ideas. When he finished, he went to the window to buy a stamp which he licked and then affixed to the envelope with a blow of his fist. The moment the letter fell into the mailbox the postmaster went to open it. It said: “God: Of the money that I asked for, only seventy pesos reached me. Send me the rest, since I need it very much. But don’t send it to me through the mail because the post office employees are a bunch of crooks. Lencho.”

तुरन्त, लेन्चो खिड़की पर कागज और स्याही माँगने के लिए गया। सार्वजनिक लेखन – कार्य की मेज पर, अपनी त्यौरियों को चढ़ा करके , जोकि उसके विचारों को अभिव्यक्त करने के प्रयास में बनी हुई थी, उसने लिखना प्रारम्भ किया। जब उसने पत्र समाप्त किया , वह खिड़की पर टिकट खरीदने के लिए गया जिसे उसने चाट कर , अपनी मुट्ठी से दबा कर लिफाफे पर चिपका दिया । जिस क्षण पत्र डाकपेटी में गिरा, पोस्टमास्टर उसे खोलने के लिए गया। उसमें लिखा था : “ ईश्वर : मैने जो धनराशि मांगी थी, उसमें से मुझ तक केवल सत्तर पीसोज ही पहुंचे हैं। मुझे शेष धनराशि भेज दीजिए , क्योंकि मुझे उनकी बहुत अधिक आवश्यकता है । लेकिन मुझे यह धन डाक द्वारा मत भेजिएगा, क्योंकि डाकघर के कर्मचारी ‘बेईमानों का दल’ है। लेन्चो।”

Visit our YouTube channel – https://www.youtube.com/c/Knowledgebeem

For more post visit our website – https://www.knowledgebeem.com

Our Mobile App for Board Examination – https://play.google.com/store/apps/details?id=com.knowledgebeem.online

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *